Health Care

अच्छी नींद लेने के कारगर टिप्स | Good Sleep Tips in Hindi

अच्छे स्वास्थ्य और सौन्दर्य के लिए गहरी नींद अत्यंत आवश्यक है |रात में गहरी नींद लेने के पश्चात दुसरे दिन जो चुस्ती एवं ताजगी महसूस होती है वह किसी टॉनिक से प्राप्त नही हो सकती है |निसंदेह इससे व्यक्ति की कार्यक्षमता बढती है | सच पूछे तो मीठी और गहरी नींद में जो आनन्द प्राप्त होता है वह अत्यंत दुर्लभ है | पूर्ण निद्रा के अभाव में व्यक्ति के स्वभाव में चिडचिडापन ,क्रोध तथा भूख न लगने की स्थिथि उत्पन्न हो जाती है | उसका स्वास्थ्य धीरे धीरे गिरता चला जाता है | कई व्यक्ति नींद के लिए गोलियों का इस्तेमाल करते है जो स्वास्थ्य और सौन्दर्य के लिए नुकसानदायक है | मिठी और गहरी नींद के कैसे ले इसके लिए कुछ उपयोगी सुझाव इस पप्रकार है

  • प्रतिदिन निश्चित समय पर सोये चाहे सर्दी हो या गर्मी | रात को 10 बजे तक अवश्य सो जाए | सुबह 5 या 6 बजे उठना भी उतना ही आवश्यक है जितना समय पर सोना |
  • सोने से तात्पर्य बिस्तर पर लेटे रहने से नही है वरन नीदं लेने से है | यदि नींद अधिक इन्तजार करवाती है तो अनिद्रा के लिए चिकित्सक का परामर्श ले |
  • सोते समय शरीर पर ढीले ढाले आरामदायक एवं न्यूनतम वस्त्र होने चाहिये ताकि नींद में व्यवधान न पड़े |
  • सुखद नींद के लिए शयनकक्ष का तापक्रम अनुकूल होना चाहिए | सर्दियों में रातभर हीटर और गर्मियों में एसी चलाकर नही सोना चाहिए |
  • सोने से एक घंटे पूर्व मीठा गुनगुना दूध पीना लाभदायक होता है इससे शरीर और मस्तिष्क को शान्ति मिलती है |मीठी गहरी नींद भी आती है |
  • सप्रयास नींद का लबादा ओढने के बजाय स्वाभविक नींद आने दे | इसके लिए आवश्यक है कि पूरा शारीरिक और मानसिक श्रम किया जाए | निश्चय ही परिश्रम की थकान के बाद अच्छी नीदं आती है |
  • आपका शयनकक्ष साफ़ सुथरा एवं व्यवस्थ्ति होना चाहिए | जिस तरह बकाया काम और जिम्मेदारिया नींद उड़ा देती है वैसे ही अव्यवस्थित शयनकक्ष भी नींद में व्यवधान का कारण बन जाता है |
  • रात का भोजन सोने से 2-3 घंटे पूर्व अवश्य करे | रात को भोजन हल्का ले एवं गरिष्ठ भोजन एवं ठूस ठूस कर खाना खाने से अपच तथा अनिद्रा होना स्वाभाविक है |
  • शयन कक्ष एवं आसपास का वातावरण शांत निरामय होना चाहिये | तीखी रोशनी , शोर चुभन आदि निद्रा में बाधा डालते है |कमरा स्वच्छ और हवादार होना चाहिए |
  • सोने के लिए बिस्तर स्वच्छ ,मुलायम और आरामदेह होना अत्यंत आवश्यक है |
  • सोने से पूर्व चाय काफी जैसे उत्तेजक पेय का सेवन न करे क्योंकि इनके सेवन से उत्तेजना वश नींद में बाधा उत्पन्न होती है | इसी तरह ठंडे पेय पदार्थो का सेवन भी सोने से पूर्व नही करना चाहिए |
  • नींद की गोलिया खाकर ली गयी नींद प्राकृतिक नींद नही होती | साथ ही उनका स्वास्थ्य चिकित्सक के परामर्श पर अपरिहार्य होने पर ही इनका सेवन करे | जहा तक सम्भव हो इनकी सहायता के बिना प्राकृतिक नींद ले |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *